Sunday, 25 September, 2022

single post

  • Home
  • विभिन्न प्रकार के 14 शंख – शंख का हिन्दू धर्म में लाभ
विभिन्न प्रकार के 14 शंख - शंख का हिन्दू धर्म में लाभ
Devotional

विभिन्न प्रकार के 14 शंख – शंख का हिन्दू धर्म में लाभ

Spread the love

विभिन्न प्रकार के 14 शंख – शंख का हिन्दू धर्म में लाभ

हिंदू धर्म के अनुसार, हिंदू धर्म में विभिन्न प्रकार के शंख होते हैं और घर में रखने पर उनके अलग-अलग लाभ होते हैं। यहां हिंदू धर्म में विभिन्न प्रकार के शंख और उनके लाभ दिए गए हैं। कृपया ध्यान दें कि कई शंख बहुत खोजे जाते हैं और कुछ महासागरों और पृथ्वी में छिपे होते हैं।

हिंदू परंपराओं के पीछे चौंकाने वाला विज्ञान:

1- मध्यवर्ती शंख

इस शंख का उद्घाटन बीच में होता है। यह एक बहुत ही दुर्लभ प्रकार का शंख है। इसे घर में रखने से मनोकामनाओं की प्राप्ति में मदद मिलेगी। मनोकामना पूर्ति के अलावा इसे शांति, सफलता और समृद्धि का अग्रदूत भी माना जाता है।

100% pure parad shivling
Buy 100% Original Parad Shivling

2- वामावर्ती शंख – दक्षिणावर्ती शंख – वलमपुरी

इस शंख को बाएं हाथ से पकड़ा जाता है। इसे वामावर्ती, दक्षिणावर्ती और वालमपुरी शंख के नाम से जाना जाता है। यह भी एक बहुत ही दुर्लभ प्रकार का शंख है। इसे घर में रखने से गरीबी और नकारात्मक शक्तियों को बाहर निकालने में मदद मिलेगी। इससे आर्थिक समस्याओं के समाधान में मदद मिलेगी। कुबेर और लक्ष्मीनारायण की कृपा रहेगी। ऐसे घरों में देवी लक्ष्मी का वास होगा।

3- मोती शंख

मोती शंख एक छोटा शंख है जिस पर विभिन्न पैटर्न होते हैं और यह आसानी से उपलब्ध होता है। शंख मानसिक शांति प्राप्त करने में मदद करता है। घर में रहने से रिश्तों में शांति प्राप्त करने में मदद मिलेगी। इसकी पूजा से मानसिक विकारों जैसे अवसाद आदि को नियंत्रित किया जा सकता है। मोती शंख में रात भर रखा पानी पीने से हृदय और फेफड़ों से जुड़ी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को ठीक करने में मदद मिलती है।

natural ek mukhi rudraksha
Buy 1 face Rudraksha

4- गणेश शंख

यह अत्यंत दुर्लभ और अत्यंत शुभ शंख है। यह शंख भगवान गणेश के आकार का है। ऐसा माना जाता है कि शंख के दर्शन मात्र से ही जीवन की समस्याओं से मुक्ति मिल जाती है। इसकी पूजा करने से संपत्ति और धन से जुड़ी मनोकामनाओं की पूर्ति होती है। गर्भवती महिलाओं द्वारा गणेश शंख में रात भर रखा पानी पीने से स्वस्थ और बुद्धिमान बच्चे होने में मदद मिलेगी। ऐसा माना जाता है कि ऐसा बच्चा जीवन में विभिन्न समस्याओं का समाधान खोजने के लिए पर्याप्त बुद्धिमान होगा। इसका पानी पीने से पीलिया ठीक हो जाता है।

श्री कृष्ण के बारे में अज्ञात और ज्ञात 90 तथ्य –

5- विष्णु शंख

सफेद रंग का यह शंख अत्यधिक विकृत होता है। कुछ लोगों का सुझाव है कि यदि कोई ध्यान से शंख को देखता है तो उसका आकार गरुड़ का है – भगवान विष्णु का वाहन। इस शंख को चंद्र शंख के नाम से भी जाना जाता है। इसे घर में रखने और उचित पूजा करने से मनोकामना पूर्ति में मदद मिलेगी। इससे नकारात्मक शक्तियों और शत्रु गतिविधि को रोका जा सकेगा। यह जीवन से उदासी को दूर करने में भी मदद करता है।

Benefits of Blue Sapphire
Buy Natural Blue Sapphire (Neelam)

6- देवी शंख

यह अत्यंत दुर्लभ शंख मां देवी शक्ति से जुड़ा है। ऐसा माना जाता है कि आदि शक्ति माँ दुर्गा जब भी राक्षसों का सफाया करने और धर्म की स्थापना करने के लिए प्रकट होती हैं तो ऐसा शंख धारण करती हैं। जो व्यक्ति नौ बार शंख जपता है उसे दुर्गा सप्तशती का 900 बार पाठ करने का पुण्य प्राप्त होता है। इस शंख की पूजा करने से देवी मां की कृपा प्राप्त होती है। वह भक्त की रक्षा, आशीर्वाद और पोषण करेगी। ऐसा माना जाता है कि जिन घरों में देवी शंख की पूजा की जाती है, वहां देवी का वास होगा।

7- मणिपुष्पक शंख

यह दुर्लभ शंख महाभारत के पांडव भाइयों में से एक सहदेव से जुड़ा है। शंख का मुख पूरी तरह से खुला हुआ है। इस शंख को घर में रखने से शांतिपूर्ण पारिवारिक जीवन में मदद मिलेगी। परिवार में प्यार और सहयोग रहेगा। शंख में रात भर पानी रखने और सुबह इसे पीने से हृदय संबंधी समस्याओं का समाधान होता है। इसकी पूजा करने से स्वास्थ्य अच्छा रहता है।

बुरी नजर दूर करने के 11 आसान उपाय (Easy way to remove evil eye )

8- नीलकंठ शंख

यह दुर्लभ शंख भगवान महादेव शिव से जुड़ा है। ऐसा माना जाता है कि हलाहल विष, जो समदुरा मंथन (समुद्र मंथन) के दौरान प्रकट हुआ था, इस शंख में एकत्र किया गया था और शिव द्वारा पिया गया था। इस दिव्य घटना से नीलकंठ शंख का नाम मिलता है। यदि किसी व्यक्ति को जहरीले सरीसृप या जानवरों ने काट लिया है तो नीलकंठ शंख में भरा गंगा नदी का पानी पीने से व्यक्ति ठीक हो जाता है। जिन घरों में यह शंख होता है, वहां कभी भी जहरीले जानवर नहीं जाते। शंख को शुद्ध गाय के दूध से भरकर कुछ मिनट धूप में रखकर पीने से भयंकर से भयंकर रोग भी दूर हो जाते हैं। घर में शंख रखना सेहत के लिए अच्छा होता है और मानसिक शांति के लिए भी।

9- अन्नपूर्णा शंख

यह एक भारी और बड़ा शंख है। इसका आकर्षक लुक है। जिन घरों में अन्नपूर्णा शंख होता है, उन्हें अच्छा भोजन प्राप्त होता है। सेहत अच्छी रहेगी। घर के लोग हमेशा दीप्तिमान, सुंदर और रूपवान रहेंगे।

natural certified ruby
Buy Natural Certified Ruby

10- लक्ष्मी शंख

यह देवी लक्ष्मी से जुड़ा एक शंख है। मान्यता है कि वह शंख में निवास करती है। यह व्यापार और करियर की संभावनाओं के लिए अच्छा है। यह उन लोगों के लिए आदर्श है जो नौकरी की तलाश में हैं या व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं।

बिल्ली की जेर के लाभ और उसको सिद्ध करने की प्रक्रिया

11- गोमुखी शंख

इस शंख में गाय के मुख का आकार होता है। यह एक शक्तिशाली और मेधावी शंख है। इसे रखने से मनोकामना पूर्ति में मदद मिलेगी। यह अच्छे स्वास्थ्य का अग्रदूत है। एक व्यक्ति विभिन्न भौतिक और शारीरिक सुखों का आनंद लेने में सक्षम होगा।

12- कामदेनु शंख

यह शंख हिंदू धर्म में दिव्य गाय कामधेनु के साथ जुड़ा हुआ है। यह इच्छा पूर्ति में मदद करता है। इसे धारण करने वाले व्यक्ति को स्वास्थ्य और लंबी आयु का आशीर्वाद प्राप्त होता है। यह व्यक्ति को प्रसिद्धि और सम्मान का आशीर्वाद भी देता है।

pukhraj ring
Buy Natural Certified Pukhraj

13- देवा शंख

यह शंख हिंदू धर्म में देवों या देवताओं द्वारा चलाया जाता था। यह अत्यंत दुर्लभ शंख है। इसकी पूजा करने से धरती पर स्वर्ग की प्राप्ति होती है। इसे धारण करने वाले व्यक्ति को ज्ञान की प्राप्ति होती है। यह आध्यात्मिक उम्मीदवारों के लिए आदर्श है। यह छात्रों और नौकरी की तलाश करने वालों और बेहतर करियर की संभावनाओं के लिए अच्छा है।

14- चक्र शंख

इस शंख का संबंध भगवान विष्णु से है। ऐसा माना जाता है कि उन्होंने इसकी मदद से विभिन्न राक्षसों का सफाया किया था। यह अधर्म पर धर्म की जीत का प्रतीक है। इसकी ध्वनि मोक्ष प्राप्ति में सहायक होती है। जिस भक्त को इसकी ध्वनि सुनने का सौभाग्य प्राप्त होगा, वह आत्म-साक्षात्कार प्राप्त करेगा और वैकुंठ – विष्णु के निवास स्थान पर पहुँचाया जाएगा।

पुखराज रत्न के ज्योतिषीय लाभ

क्या आप जानते थे ?

विष्णु पुराण के अनुसार, शंख देवी लक्ष्मी का भाई है क्योंकि शंख और देवी लक्ष्मी दोनों समुद्र मंथन या आलोड़न के दौरान प्रकट हुए थे। नियमित रूप से शंख बजाने से हृदय की मांसपेशियां मजबूत होती हैं, यह फेफड़ों से संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं को ठीक करने में मदद करती है, सांस लेने में सुधार करती है और बुद्धि में सुधार करने में भी मदद करती है।
पूजा क्षेत्र में घर पर शंख स्थापित करने के लिए सबसे अच्छे दिन रवि पुष्य (रविवार को पुष्य नक्षत्र), गुरु पुष्य (गुरुवार को पुष्य नक्षत्र), नवरात्रि, होली, दिवाली और महाशिवरात्रि हैं।


Spread the love